Labour Card Payment Status : इन श्रमिकों के खातें में आये 1-1 हजार रूपये, ऐसे ऑनलाइन करें चेक

0
19

Labour Card Payment Status : इन श्रमिकों के खातें में आये 1-1 हजार रूपये, ऐसे ऑनलाइन करें चेक

Labour Card Payment Status : उत्तर प्रदेश की योगी सरकार डेढ़ करोड़ श्रमिकों को एक हजार रुपये की राशि भेजेगी। राज्य में पंजीकृत श्रमिकों की कुल संख्या 50908745 करोड़ (पांच करोड़ 90 लाख आठ हजार 745) है। इसमें से श्रमिक कार्ड पर पंजीकृत असंगठित श्रमिकों की संख्या 38160725 तथा बीओसीडब्ल्यू बोर्ड के अंतर्गत पंजीकृत श्रमिकों की कुल संख्या 12748020 है। इनमें से प्रथम चरण में 1.5 करोड़ के खाते में भरण-पोषण भत्ता भेजा जायेगा। कर्मचारियों।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पहले ही मजदूरों, रेहड़ी-पटरी वालों, रिक्शा चालकों, कुलियों, पुलदारों आदि को ऑनलाइन भरण-पोषण भत्ता प्रदान कर चुके हैं। उत्तर प्रदेश को देश का पहला राज्य बनाने का काम किया गया। जिसके बाद कई राज्यों ने योगी सरकार की व्यवस्था लागू भी कर दी।

500 प्रति माह घोषित

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सोमवार से प्रदेश के 1.50 करोड़ श्रमिकों को भरण-पोषण भत्ता देना शुरू करेंगे। इसमें 500 रुपये प्रतिमाह की दर से दो माह के लिए एक हजार रुपये दिए जाएंगे। इस तरह सरकार सोमवार को श्रमिकों और निर्माण श्रमिकों को कुल 1500 करोड़ रुपये हस्तांतरित करेगी। इसी योगी राज ने श्रमिकों को भरण-पोषण भत्ता देकर प्रदेश को देश में प्रथम स्थान दिलाने का कार्य किया। क्योंकि योगी सरकार से पहले देश के किसी भी राज्य ने इस लेबर कार्ड सिस्टम पर काम नहीं किया था.

ई-श्रम कार्ड की किस्त कैसे चेक करें या नहीं : लेबर कार्ड भुगतान की स्थिति

पात्र मजदूर जिनके खाते में ई श्रम योजना की किस्त नहीं आई है। वे परेशान नहीं होते। यहां कुछ तरीके दिए गए हैं जिनसे आप आसानी से जांच सकते हैं कि उनके श्रमिक कार्ड की किस्त देर से आई है या नहीं-

  • इसके लिए सबसे पहले आपको बैंक में जाकर किस्त का स्टेटस चेक करना होगा या फिर आप घर बैठे बैंक के टोल फ्री नंबर पर कॉल करके खाते की पूरी जानकारी ले सकते हैं।
  • अपने बैंक खाते से जुड़े मोबाइल नंबर के संदेश की जांच करें। सरकार जब भी इस तरह का फंड ट्रांसफर करती है तो मोबाइल पर एक मैसेज आता है। इससे पता चलेगा कि पैसा जमा हुआ है या नहीं।
  • अगर मोबाइल नंबर बैंक में रजिस्टर्ड है तो उसे ठीक से चेक कर लें, अगर नहीं तो रजिस्टर कर लें, ताकि मैसेज के जरिए अकाउंट से जुड़ी जानकारी आपको मिल सके.
  • अगर मोबाइल बैंक खाते से लिंक नहीं है, तो ऐसे में अपने बैंक या डाकघर की उस शाखा में जाएं जहां खाता चल रहा है। वहां आपको बताया जाएगा कि पैसा ट्रांसफर हुआ है या नहीं।
  • आप चाहें तो अपनी पासबुक डालकर भी जान सकते हैं। एंट्री में दिखाया जाएगा कि पैसा ई-श्रम के लिए आया है या नहीं।
  • अगर मोबाइल में Google Pay, Paytm जैसा वॉलेट है तो आप उससे भी बैंक अकाउंट चेक कर सकते हैं।

कौन मिलेगा

इस श्रमिक कार्ड में सड़क किनारे विक्रेता, घुड़सवार, रिक्शा और ठेला चालक, नाई, धोबी, दर्जी, मोची, फल और सब्जी विक्रेता आदि शामिल हैं। इसके अलावा निर्माण कार्य में लगे श्रमिकों का एक बड़ा वर्ग है। कोरोना के पहले संक्रमण के दौरान भी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आगे आकर समाज के इस सबसे वंचित वर्ग की हर संभव मदद की थी.

लेबर कार्ड भुगतान के दूसरे चरण में भी यह प्रक्रिया जारी रहेगी। COVID महामारी के बीच जीवन और आजीविका की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए शहरी क्षेत्रों में दैनिक आधार पर काम करके अपना जीवन यापन करने वाले दुकानदारों, दिहाड़ी मजदूरों, रिक्शा / ई-रिक्शा आदि को ट्रैक करें। पारंपरिक मजदूरों जैसे नाविकों, नाइयों, धोबी, मोची, हलवाई आदि को भरण-पोषण भत्ता प्रदान किया जाता था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here